Friday, July 1, 2022
HomeShubh MuhuratMundan Sanskar Muhurat 2022 in Hindi | मुंडन संस्कार के लिए शुभ...

Mundan Sanskar Muhurat 2022 in Hindi | मुंडन संस्कार के लिए शुभ मुहूर्त सूचि

Mundan Sanskar Muhurat मुंडन हिंदू धर्म के 16 संस्कारों में से एक है, जिसमें लोगों की विशेष श्रद्धा होती है। इस धार्मिक कार्य को कई नामों से जाना जाता है – जैसे कि चौलकर्मा, चौल मुंडन, चूड़ाकर्म आदि। लोग मुंडन करने के लिए एक शुभ समय का पता लगाते हैं और उस शुभ तिथि और समय पर इस संस्कार को करते हैं ताकि उन्हें इसका शुभ परिणाम मिल सके। 

आज इस लेख में हम जानेंगे की साल 2022 में मुंडन संस्कार के लिए कौन सी तिथियां शुभ रहेगी दिन व् दिनांक क्या रहेंगे, बच्चे का मुंडन कब करना चाहिए 2022 साथ ही जानेंगे की मुंडन से पहले किन बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए। तो अगर आप साल 2022 में अपने बच्चे का मुंडन करवाना चाहते हैं और उसके लिए आपको शुभ मुहूर्त (Mundan Sanskar Muhurat) चाहिए तो यह लेख आपकी पूरी मदद करेगा। तो आइए जानते हैं मुंडन संस्कार मुहूर्त 2022 (Mundan Sanskar Muhurat 2022) के बारे में विस्तार से –

Mundan Sanskar Muhurat 2022
Mundan Sanskar Muhurat 2022

फरवरी माह मुंडन संस्कार शुभ मुहूर्त 2022 (Mundan Sanskar Muhurat 2022)

क्रम संख्यादिनांकदिनशुभ मुहूर्त
12 फरवरीबुधवार08:23:47 – 31:09:07
23 फरवरीगुरुवार07:08:32 – 16:35:19
37 फरवरीसोमवार07:06:01 – 18:59:14
411 फरवरीशुक्रवार07:03:11 – 30:37:54
514 फरवरीसोमवार07:00:50 – 20:30:57
621 फरवरीसोमवार06:54:45 – 20:00:08
728 फरवरीसोमवार07:02:52 – 27:18:44

मार्च माह मुंडन संस्कार शुभ मुहूर्त 2022 (Mundan Sanskar Muhurat 2022)

क्रम संख्यादिनांकदिनशुभ मुहूर्त
114 मार्चसोमवार06:32:44 – 12:08:11
224 मार्चगुरुवार06:21:12 – 17:30:22
328 मार्चसोमवार06:16:32 – 16:17:25
430 मार्चबुधवार06:14:13 – 10:49:08

अप्रैल माह मुंडन संस्कार शुभ मुहूर्त 2022 (Mundan Sanskar Muhurat 2022)

क्रम संख्यादिनांकदिनशुभ मुहूर्त
120 अप्रैलबुधवार13:55:02 – 23:42:01
225 अप्रैलसोमवार05:46:15 – 29:46:15

मई माह मुंडन संस्कार शुभ मुहूर्त 2022 (Mundan Sanskar Muhurat 2022)

क्रम संख्यादिनांकदिनशुभ मुहूर्त
113 मईशुक्रवार18:49:23 – 29:31:52
227 मईशुक्रवार11:49:23 – 26:26:42

जून माह मुंडन संस्कार शुभ मुहूर्त 2022 (Mundan Sanskar Muhurat 2022)

क्रम संख्यादिनांकदिनशुभ मुहूर्त
11 जूनबुधवार05:23:39 – 13:00:09
22 जूनगुरुवार16:03:57 – 24:17:57
310 जूनशुक्रवार05:22:34 – 29:22:34
423 जूनगुरुवार16:14:57 – 29:24;03
530 जूनगुरुवार10:50:20 – 29:26:09

जुलाई माह मुंडन संस्कार शुभ मुहूर्त 2022 (Mundan Sanskar Muhurat 2022)

क्रम संख्यादिनांकदिनशुभ मुहूर्त
11 जुलाईशुक्रवार05:26:31 – 27:56:19
28 जुलाईशुक्रवार18:26:46 – 29:29:23

मुंडन कब किया जाता है 

मुंडन संस्कार बालकों के विषम वर्ष यानि 3, 5 या 7 वर्ष में करवाने चाहिए तो वही बालिकाओं के लिए सम वर्ष यानि 2, 4, 6 और 8 वर्ष में करवाने चाहिए। 

मुंडन संस्कार के लिए शुभ नक्षत्र और शुभ दिन (Mundan Sanskar Muhurat 2022)

मुंडन संस्कार के लिए शुभ नक्षत्र होते है ज्येष्ठा, मृगशिरा, रेवती, चित्रा, हस्त, अश्वनी, पुष्य, स्वाति, पुनर्वसु, श्रवण, घनिष्ठा, शतभिषा वहीं मुंडन संस्कार के लिए शुभ दिन होते है सोमवार, बुधवार, गुरुवार और शुक्रवार। परन्तु ब्राह्मण वर्ग रविवार में, क्षत्रिय वर्ग मंगलवार में, वैश्य व शुद्र शनिवार में भी करवा सकते है। 

मुंडन संस्कार कब करवाना होता है शुभ 

मुंडन संस्कार आषाढ़ में आषाढ़ी एकादशी से पहले और उसके आलावा माघ व फाल्गुन माह में करना बेहद शुभ होता है। वहीं चैत्र, वैशाख, ज्येष्ठ माह में जन्मे बच्चों का या यदि मुंडन किया जाने वाला बच्चा घर का ज्येष्ठ हो तो इस माह में मुंडन संस्कार नहीं करना चाहिए। किसी बालिका का मुंडन शुक्रवार के दिन करना वर्जित माना गया है। वहीँ मुंडन संस्कार बच्चे का जन्म के माह और जन्म के नक्षत्र के साथ ही चन्द्रमा के चतुर्थ, अष्ठम, द्वादश और शत्रु भाव में स्थिर होने पर किया जाना भी निषेध माना जाता है। 

मुंडन संस्कार क्यों किया जाता है?

चूड़ाकर्म संस्कार यानि मुंडन का संस्कार क्यों जरुरी होता है? बालक का कपाल यानि सिर लगभक तीन वर्ष की अवस्था तक कोमल रहता है। तत्पश्चात धीरे-धीरे कठोर होने लगता है। गर्भावस्था में ही उसके सिर पर उगे बालों रोम शीघ्र इस अवस्था तक कुछ बंद से हो गए रहते है। अतः इस अवस्था में शिशु के बालों को उस तरह से साफ कर देने पर सिर में की गंदगी, कीटाणु आदि तो दूर हो ही जाते है। 

मुंडन करने पर बालों के रोम शीघ्र ही खुल जाते है। इससे नए बाल घने मजबूत एवं स्वच्छ होकर निकलते है। सिर पर घने मजबूत और स्व्च्छ बालों का होना मस्तिष्क की सुरक्षा के लिए आवश्यक है अथवा यूँ कहे की सिर के बाल सिर के रक्षक है। तो इसलिए मुंडन एक संस्कार के रूप में किया जाता है। 

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार किसी शुभ मुहूर्त में ही संस्कार करना चाहिए। चूड़ाकर्म संस्कार से बालक के दांतों का निकलना भी आसान हो जाता है। इस संस्कार में शिशु के सिर के बाल पहली बार उस्तरे से उतारे जाते है और कही-कही कैंची से बाल एकदम छोटे करा देने का भी चलन है। जन्म के पश्चात प्रथम वर्ष के अंत तथा तीसरे वर्ष की समाप्ति के पूर्व मुंडन ससंकार कराना आमतौर पर प्रचलित है। 

क्योंकि हिन्दू मान्यता के अनुसार एक वर्ष से कम की उम्र में मुंडन संस्कार करने से शिशु की सेहत पर बुरा प्रभाव पड़ता है और अमंगल होने की आशंका रहती है। फिर भी कुल परम्परा के अनुसार पांचवें या सातवें वर्ष में भी इस संस्कार को करने का विधान है। 

मान्यता यह है कि शिशु के मस्तिष को पुष्ट करने, बुद्धि में वृद्धि करने तथा गर्भगत मलिन संस्कारों को निकालकर मानवतावादी आदर्शो को प्रतिष्ठापित करने हेतु चूड़ाकर्म संस्कार किया जाता है। इसका फल, बुद्धि, बल, आयु और तेज की वृद्धि करना है। इसे किसी देवस्थल या तीर्थ स्थान पर इसलिए कराया जाता है ताकि वहां के दिव्य वातावरण का भी लाभ शिशु को मिले। 

मुंडन संस्कार विधि (Mundan Sanskar Vidhi)

  • मुंडन पूरे विधि-विधान के साथ किया जाता है। इस दौरान पंडित मंत्रों का जाप करते हैं और बच्चे का मुंडन कराया जाता है। जाने मुंडन संस्कार की विधि जो निम्नवत है-
    • हिंदू धर्म के अनुसार मुंडन संस्कार (Mundan Sanskar Muhurat) सही समय देखकर ही किया जाता है। आमतौर पर मुंडन संस्कार किसी धार्मिक तीर्थ स्थल पर किया जाता है। धार्मिक तीर्थ स्थल पर मुंडन कराने की परंपरा है ताकि बच्चे को धार्मिक स्थल के वातावरण का लाभ मिल सके। इसका शुभ मुहूर्त पंडित द्वारा संतान के जन्म और समय के आधार पर निकाला जाता है।
    • मुंडन संस्कार दौरान पंडित हवन भी करते हैं। मुंडन संस्कार के दौरान, माँ बच्चे को गोद में बिठाती है और और बच्चे का मुंह पश्चिम दिशा की ओर रखती है।
    • इसके बाद, नाई के द्वारा रेजर (उस्तरे) की मदद से बच्चे का मुंडन किया जाता है। हालांकि, कुछ परिवारों में शुरुआती बाल पंडित के द्वारा उतारे जाते है।
    • मुंडन के बाद बच्चे का सिर गंगाजल से धोया जाता है।
    • इसके बाद, बच्चे के सिर पर हल्दी और चंदन का लेप लगाएं। अगर बच्चे के सिर पर किसी तरह का कट लग जाए तो यह पेस्ट जल्दी ठीक होने में मदद करता है।
    • इसके बाद, बच्चे के बल को किसी भगवान को समर्पित किया जाता है या किसी पवित्र नदी में प्रवाहित किया जाता है।
    • किसी-किसी स्थान के परंपराओं में, मुंडन के दौरान बालों को थोड़ी सी मात्रा में छोड़ दिया जाता है। कहा जाता है कि यह चोटी मस्तिष्क को सुरक्षा प्रदान करती है।

मुंडन संस्कार मुहूर्त लिस्ट डाउनलोड (Mundan Sanskar Muhurat PDF List Download)

डिसक्लेमर: यहां बताई गई (Mundan Sanskar Muhurat) या किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। शुभ दिन पर व्यक्ति विशेष के लिए उसकी राशि के मुताबिक शुभ मुहूर्त क्या होगा, यह ज्योतिषाचार्य ही बता सकते हैं।

प्रिय पाठकगण,
आज के इस लेख में बस इतना ही था। हमे उम्मीद है की इनमें से सभी जानकरी आपको मिल गई होगी जैसे की मुंडन संस्कार शुभ मुहूर्त 2022, Mundan Sanskar Muhurat 2022, मुंडन कब किया जाता है, मुंडन संस्कार कब करवाना होता है शुभ, बालक के सिर का पहला मुंडन 2022, मुंडन संस्कार क्यों किया जाता है? और मुंडन संस्कार विधि। 

हम आशा करते है की हमारे द्वारा दी गई जानकारी से आप संतुष्ट हैं। अगर आपको ये लेख पसंद आई है तो हमें कमेंट करके अपनी प्रतिक्रिया हम तक जरूर पहुंचाए आपको ये लेख कैसा लगा  और आप इसे अपने दोस्तों के साथ जरुर FACEBOOK और TWITTER  एवं अन्य सोशल मीडिया पर SHARE कीजिये और ऐसे ही नई जानकारी पाने के लिए हमें SUBSCRIBE जरुर करे।

🙏 धन्यवाद 🙏

राहुल गुप्ता कट्टर हिन्दू
राहुल गुप्ता कट्टर हिन्दूhttps://www.rahulguptakattarhindu.in
हमारे इस ब्लॉग से आप राष्ट्रीय या अन्तर्राष्ट्रीय महत्वपूर्ण दिवस, हिंदुत्व, व्रत, त्योहार, कथा, कहानी, शायरी, कविता, कानून की धाराएं, इंटरनेट, कंप्यूटर, सोशल मीडिया, ब्लॉगिंग की जानकारी और महापुरुषों, स्वतंत्रता सेनानी, नेता, अभिनेता, कवि, क्रिकेटर इत्यादि के जन्मदिवस, जयंती, पुण्यतिथि, जीवन परिचय, बायोग्राफी इत्यादि के बारे में जानकरी हिंदी में प्राप्त कर सकते है।
संबंधित लेख

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

हाल की पोस्ट

लोकप्रिय लेख

हाल की टिप्पणियाँ

%d bloggers like this: